भारत बाप है, मा नही

Just another weblog

41 Posts

236 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 5733 postid : 1071

लोकशाही की उमर कितनी ?

Posted On: 27 Apr, 2013 पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

जब हम वोट करने जाते हैं तो उंगली पे कलर लगाया जाता है । लोकशाही का ब्ल्यु रंग । हाथ से तो २-४ दिनमें निकल जाता है पर जीवन में रहना चाहिए; जो अब नही रहनेवाला है ।

१७७६ में सब से पहले लोकशाही अमरिका में आयी, बाकी दुनिया में उसका अनुकरण हुआ । अब सब से पहले अमरिका से लोकशाही विदा ले रही है तो बाकी दुनिया भी उसका अनुकरण करेगी ही ।

अमरिका अपने को वापस बिटन के हवाले करने जा रहा है और ब्रिटन का ही हिस्सा बन कर सारी दुनिया पर ब्रिटेन की रानी का राज कायम करना चाहता है । आगे new world order का स्टडी कर लो ।   (लिन्क १ )

अमेरिकन नागरिकों की आजादी छीनने के लिए कपटजाल रचा गया है । अपने ही शहरों में आतंकी घटनायें प्रायोजित हो रही है । घन दे कर गुनाह ( फोल्ज फ्लॅग) करवाये जा रहे हैं । दोष अपने विरोधियों पर मढा जा रहा है । उनके विरोधी खूद अमरिकी नागरिक है । नागरिकों मे से ही आतंकी खोजे जा रहे हैं । कुछ नासमज जनता सोचती है सारे आतंकवादी मुस्लिम प्रजा है और अमरिका आतंकवाद खतम करने की कोशीश कर रहा है । वो ये नही जानते की देश भी आतंकवादी हो सकता है ।

इस लिन्क में आप को एक टेबल मिलेगा जीसमें बताया गया है अमरिकाने किन किन देशों पर लडाई की है । और उसमें आतंकवाद के कारण ढुंढने की कोशीश किजीए, मुस्लिम और बिन मुस्लिम देश की गिनती कर लिजीये । ( लिन्क २ )

मुसलमानो से अमरिका को कोइ डर नही है, खूद के ही प्यादे हैं जब चाहे खतम कर सकता है । चिंता अपने खूद के नागरिकों की है, खास तो मिलिशिआ की । हर देश में हथियार धारी देशभक्त जनता का एक समुह होता है । कबाली नामका समुह पाकिस्तानमें भी है । भारत में नक्षलवादी समुह है लेकिन वो देशभक्त नही है । अमरिका में मिलिशिआ है और उस के के कई समुह है । अमरिका को आजाद कराने वाले यही समुह थे । उपरांत अमरिकी जनता भी जाग गई है और उस के पास भी हथियार है । ये सब अमरिकी सरकार को अब अमरिकी सरकार नही पर ब्रिटीश सरकार मानने लगे है । अपने नागरिकों को काबूमें लेने के लिए कानून बनाये जा रहे हैं । सबसे पहले तो नागरिकों से गन छीनना चाहते हैं और आधार कार्ड की चीप नागरीक के शरीर में बैठा देना चाहते हैं । प्रोपर्टी, नौकरी, बैंक, स्वास्थ्य सेवा, मनी ट्रन्जेक्शन सब चीप से जोडे जा रहे हैं, ताकी नासा और सीआईए द्वारा हर नागरिक पर नजर रख्खी जा सके, उसे कंट्रोल किया जा सके और जीसे इन सारी सुविधाओ से वंचित करना है कर सके, प्रोपर्टि हस्तगत करनी हो कर सके ।

मिलिशिआ ने तो जंग डिक्लेर कर दी है, इस लिन्क में विडियो देखिए । ( लिन्क ३ )

मिलिशिआ के सारे गुट और आम नागरिक एक हो जाते हैं तो सरकार को भारी पड सकता है । टकराव की स्थिती को निपटने के लिए कुछ तैयारियां हो रही है ।

070309.fema-trailers

अमरिका में ८०० जगह पर ऐसे फेमा केम्प (Federal Emergency Management Agency) बनाये गये हैं । अभी खाली है लेकिन कैदियों के स्वागत के लिए बिलकूल तैयार है । पूराने कॅम्पमें १९४५ के जापान युध्ध के समय जापानियों को सालों तक गुलामों की तरह रख्खा गया था । सस्ती मजदूरी करवाई गई थी । कुछ साल पहले ही उनको आम अमरिकन बनाया गया है ।

मार्शल लो जब लगेगा तब इस का संचालन फेमा करेगा । उन सब को इस में लाया जायेगा जिनका लिस्ट सरकार के पास हो और लिस्ट पर ऍटर्नी का साईन हो ।

Flying over FEMA site. The New World Order

जब १९८४ मे , प्रेसिडन्ट रेगन द्वारा हस्ताक्षर किये गये थे तब Rex 84 कार्यक्रम का (Readiness Exercise 1984=आपातकाल ) तर्क तो ये बताया गया था की मॅक्सिकन अमेरिकन सिमा में यदी बडे पैमाने पर अवैध घुस पैठ होती है तो वे जल्दी से फेमा द्वारा राउन्डप से हिरासत में ले कर इन केंद्रों में घुस पैठियों को डाल दिया जायेगा । रेक्स 84 के कारण कई सैन्य अड्डों को बंद करा दिया और उसे जेलों में बदल दिया गया है । जनता इतनी मुर्ख नही है की अवैद्य घुस पैठ की बात मान लें । १०० घुस पैठियों के कारण लाख आदमी समा जाये ऐसे केम्प नही बनाने पडते ।

इस के दो सब प्रोग्राम है ओपरेशन केबल स्प्लाइसर और गार्डन प्लोट । गार्डन प्लोट आबादी को नियंत्रण करने के लिए और केबल स्प्लाइसर संघीय सरकार द्वारा राज्य और स्थानीय सरकारों को टेकओवर करने के लिए । फेमा पूलिस राज का एक हथियार और नियंत्रक है ।

सभी केम्प रेल और रोड से जुडे हुए हैं और आदमी को नजरबंद करने की सारी सुविधाएं मौजुद हैं । कुछ केम्प के नजदिक हवाई अड्डे भी है । लगभग सभी में २०००० कैदी रखने की क्षमता है ।

ओबामा समजाता है की अलकायदा के कारण हमारे देश को खतरा है । आदमी को पकडकर कानूनी कार्यवाही करते हैं तो सबूत के साथ छेडखानी कर के छूट जाते हैं । इस लिये जो भी शक के घेरे में है या भविष्य में गुनाह कर सकते हैं उन सब को पकडना होगा । जीन पर भी शक हो उसे १० साल तक बिना कोइ कोर्ट की कार्यवाही उसे बंद रखना पडेगा । ये ओबामां का रुल ओफ लॉ है ।

Obama explains the FEMA Camps

और उस रुल ओफ लॉ के लिए क्या क्या कानून बनाये है देखें ।

कार्यकारी आदेश 10990 – सरकार सभी परिवहन के साधनों और राजमार्गों और बंदरगाहों पर नियंत्रण लेने के लिए फेमा को अनुमति देती है ।
कार्यकारी आदेश 10995- सरकार संचार मीडिया को जब्त करने और नियंत्रित करने के लिए फेमा को अनुमति देती है ।
कार्यकारी आदेश 10997- सरकार बिजली, गैस, पेट्रोलियम, ईंधन और सभी खनिजों पर नियंत्रण लेने के लिए फेमा को अनुमति देती है ।
कार्यकारी आदेश 10998 सरकार निजी कारों, ट्रकों या परिवहन के सभी साधन को जब्त करने की और सभी राजमार्गों, बंदरगाहों, और जलमार्ग पर पूरा नियंत्रण के लिए फेमा को अनुमति देती है ।
कार्यकारी आदेश 10999 सरकार सभी खाद्य संसाधनों और खेतों पर कब्जा करने की अनुमति देती है
कार्यकारी आदेश 11000 सरकार सरकारी देखरेख में काम ब्रिगेड में नागरिकों को लामबंद करने के लिए अनुमति देती है ।.
कार्यकारी आदेश 11001 सरकार ने सभी स्वास्थ्य, शिक्षा और कल्याण कार्यों अपने पर लेने के लिए अनुमति देती है ।
कार्यकारी आदेश 11002 सभी व्यक्तियों का एक राष्ट्रीय पंजीकरण संचालित करने के लिए पोस्टमास्टर जनरल की नियुक्ति कर सकती हैं ।
कार्यकारी आदेश 11003 सरकार व्यावसायिक विमान सहित सभी हवाई अड्डों और विमानों को कबजे में लेने के लिए अनुमति देती है ।
कार्यकारी आदेश 11004 आवास और वित्त प्राधिकरण का स्थानान्तर करना, पब्लिक फंड से नये आवास बनाने, अमुक क्षेत्र को प्रतिबंधित करना, आबादी को नई जगह पर बसाने के लिए अनुमति देना ।
कार्यकारी आदेश 11005 सरकार रेलमार्ग, अंतर्देशीय जलमार्ग और सार्वजनिक भंडारण सुविधाओं पर अधिकार लेने के लिए अनुमति देती है ।
कार्यकारी आदेश 11051 आपातकालीन योजना के कार्यालय की जिम्मेदारी निर्दिष्ट करता है और अंतरराष्ट्रीय तनाव और आर्थिक या वित्तीय संकट के समय सभी कार्यकारी आदेश पर प्रभाव डाल करने के लिए ओथोरिटी देती है ।
कार्यकारी आदेश 11049 एक पन्द्रह साल की अवधि के लिए जारी किए गए 21 ऑपरेटिव कार्यकारी आदेश को मजबूत बनाने, संघीय विभागों और एजेंसियों को आपातकालीन तैयारियां करने की मंजुरी प्रदान करती है
1947
के राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के अनूसार उद्योगों, सेवाओं, सरकार और अन्य आवश्यक आर्थिक गतिविधियों के सामरिक स्थान परिवर्तन, और मानव शक्ति, संसाधनों और उत्पादन सुविधाओं के लिए आवश्यकताओं को युक्तिसंगत बनाने के लिए के लिए अनुमति देती है ।
1950
रक्षा उत्पादन अधिनियम, अर्थव्यवस्था के सभी पहलुओं पर राष्ट्रपति को व्यापक अधिकार देती है ।
29
अगस्त 1916 के अधिनियम अनूसार सैनिक परिवहन, सामग्री, या आपात स्थिति से संबंधित किसी अन्य उद्देश्य के लिए किसी भी परिवहन प्रणाली का कब्जा लेने के लिए, युद्ध के समय में, सेना के सचिव अधिकृत होता है ।
अंतर्राष्ट्रीय आपातकालीन आर्थिक शक्तियां अधिनियम – एक विदेशी देश या राष्ट्र की संपत्ति को जब्त करने के लिए राष्ट्रपति को सक्षम बनाता है । ये पावर 1979 मे फेमा को ट्रन्फर किया गया है ।

कोइ भी देश की संपत्ति को हडप करना याने वो चाहे तो भारत की संपत्ति हडप कर सकता है । भारतियों को कैसा लगेगा ये बात जानकर । किसने ये हक्क दिया ?

1iuvIB

इसे फेमा कोफिन कहते हैं । लेकिन हकिकत में ये कन्टेनर है । एक एक बोक्स में पांच पांच लाश समा जाती है । इसका उपयोग लाशें पेक कर के समंदर या सामुहिक लाशें गाडने के फिल्ड बनाये गये हैं वहां तक ले जाना होगा । लाखों की संखामें बनाये गये हैं जैसे कोई महामारी आनेवाली है ।

Fema Camp – Locations and Executive Orders

investigating femas mass graves in houston texas

अपने ही प्यादे मुस्लिम आतंकियो के बहाने इतने सारे कानून और इतनी सारी तैयारियां करना मानने वाली बात तो नही है । मनवाने के लिए नकली आतंकी घटनायें कराई जाती है, विश्व के वीआईपी मुसलमानों को टार्गेट कर के मिडिया द्वारा प्रचार भी करवाते हैं, क्या ये बात जनता समज नही सकती ? अभी हाल ही में भारत के युपी का राजकिय प्रतिनीधिमंडल अमरीका गया तो एक मुस्लिम सदस्य का अपमान किया गया । क्या हम समज नही सक्ते की ये भी जानबूज कर किया गया था जीस से समस्या को थोडी प्रसिध्धि मीले । वरना क्या कारण था बाकी प्रतिनिधि उस मुसलमान सदस्य के साथ खडा नही रहा, तुरंत ही सब लौट क्यों नही आये ? अपने कार्यक्रम को आगे क्यों पूरा किया ?

अमरिका की असली समस्या यहुदी बेंकर है । अमरिका भी भारत की तरह स्वतंत्र देश नही है आज तक ब्रिटन का ही प्यादा बना हुआ है । ब्रिटन के ताज के पिछे छूप कर यहुदी माफिया दुनिया के देशों को अपनी उंगली पर नचाते हैं । अमरिका का विकास का भांडा फुट जाये, डोलर झिरो हो जाये इससे पहले चायना को सशक्त कर दिया है, क्यों की अमरिका अपने देश के ही नागरिकों को संभाल पाने में तिसरी दुनिया के देशों पर ध्यान नही दे पायेगा ।

इन यहुदी बेन्क माफियाओं का बहुत बडा भांडा फुटा है सोने को लेकर । नकली सोने का पूरा शिपमेन्ट पकडा गया है ।

न्यु वर्ल्ड ऑर्डेर, ब्रिटन की नई फासीवादी विश्व सरकार में, सब नये सिरे से काम करना है, लोगों से संपत्ती छीननी है, आजादी छीननी है, नई इकोनोमी को चलाने के लिए बेजीक काम की तरफ जनता को ले जाना है, सस्ती मजदूरी करवानी है । ओफिस और शहेर छुडवाने हैं । जनता को बहुत तकलिफ होगी तो जनता सरकार से लडेगी ही, तब ये सारी तैयारी काम में आयेगी ।

लिन्क १

http://bharodiya.jagranjunction.com/2013/03/06/%E0%A4%B5%E0%A4%B8%E0%A5%81%E0%A4%A7%E0%A5%88%E0%A4%B5-%E0%A4%95%E0%A5%81%E0%A4%9F%E0%A5%81%E0%A4%AE%E0%A5%8D%E0%A4%AC%E0%A4%95%E0%A4%AE%E0%A5%8D/

लिन्क २

http://academic.evergreen.edu/g/grossmaz/interventions.html

लिन्क ३

http://www.secretsofthefed.com/civil-war-declared-in-u-s-by-militia-must-watch-video/

खुद के प्यादे ।

http://bharodiya.jagranjunction.com/2013/03/25/%E0%A4%9A%E0%A4%BE%E0%A4%B0%E0%A4%BE-%E0%A4%AD%E0%A4%BE%E0%A4%88%E0%A4%9A%E0%A4%BE%E0%A4%B0%E0%A5%87-%E0%A4%95%E0%A4%BE/

Flying over FEMA site. The New World Order

http://www.youtube.com/watch?v=Gwm3gBTAlo8&feature=player_embedded

Obama explains the FEMA Camps

http://www.youtube.com/watch?v=HkSkQgnEV-Q

Fema Camp – Locations and Executive Orders

http://www.youtube.com/watch?v=1eCKAWW08lg

mass graves

http://www.youtube.com/watch?v=OoXTQwFD42o&feature=player_embedded#!

यहुदी बेन्क माफियाओं का भांडा फुटा

thtp://www.infiniteunknown.net/2010/01/15/fake-gold-bars-in-fort-knox-whats-next-the-imf-sold-gold-plated-tungsten-bars-to-india/




Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

shashi bhushan के द्वारा
30/04/2013

आदरणीय भरोदिया जी, सादर ! आँख खोलने वाली जानकारी !

    bharodiya के द्वारा
    22/05/2013

    नमस्कार और धन्यवाद डो.साहब


topic of the week



latest from jagran