भारत बाप है, मा नही

Just another weblog

42 Posts

236 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 5733 postid : 1075

गौ-सेवक

Posted On: 21 May, 2013 पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

09052013002

भाईयों के साथ मिटिंगमें बैठा था, तो अश्विन के फोन की रिन्ग बजी, “शिहोर से फोन है” इतना बोल कर उठ के अपने घर की और चलता बना । मैंने उस के पिता याने मेरे चचेरे भाई की और देखा तो उन्होंने बताया की “कोइ गाय बिमार है, ये दो चार लडके यहां से मेडिकल कीट ले के जायेंगे, थोडी बिमारी होगी तो वहां इलाज कर के आ जायेंगे वरना गाय को ही उठाके यहां ले आयेन्गे । अब इस का आने का कोइ भरोसा नही, २ भी बज सकता है, सुबह भी हो सकती है । “

रात के दस बजे थे, शिहोर भी १८-२० कोलोमिटर दूर है, इस का समर्पण देख कर मुझे लगा की मैं इस लडके के साथ जाउं, देखुं की वो लोग ये सब कैसे कर रहे हैं । अभी सोच ही रहा था की हमारे सामने से ही अपनी बाईक ले के निकल गया । शायद मेरी इच्छा ही अधूरी थी इसलिये फोन कर के वापस नही बुलाया मुजे साथ ले जाने के लिए ।
वैसे गुजरात में सरकारी पशु के डोक्टर होते हैं, किसान उन्हीं डोक्टरों की सेवा लेते हैं । लेकिन अगर बिमारी ला-इलाज हो जाती है तो किसान ऐसी बिमार गाय या बैल से छुटकारा पाने के इरादे से हमारे गांव की गौशाला कम पशु अस्पताल को खबर करते हैं । या कीसी रास्ते पर अकस्मात के कारण गाय घायल होती है तो राहदारी फोन से जानकारी दे देते हैं । हां, दायरा ३०-३५ किलोमिटर का ही रख्खा है । इस से ज्यादा दूर के गांवों को कवर करना मुस्किल है । सेवा करने वाले सब नौकरी पेशा या धन्धेवाले होते हैं अपना काम छोडकर जाना होता है ।

पहले एक डोक्टर को रख्खा था लेकिन वो सारा काम गांवके लडकों से ही करवाता था । उस ने ही सिखा दिया, दावाई देना, ओपरेशन करना, सडे हुए सिंग (कमोडी की बिमारी) निकालना, कान पकड के या गौमुत्र सुंघ के गाय की बिमारी समज लेना । लडके माहिर हो गये तो डोक्टर चला गया । ये अश्विन उनमें से एक है ।


12082011019

बडे से बडा ओपरेशन भी ये बच्चे लोग कर देते हैं । खास कर कमोडी के ओपरेशन मे इन की मास्टरी है । कमोडी में पशुके सिन्ग मूल में से सड जाता है, खोपडी और मगज को ईजा होने से पहले ओपरेशन कर देना पडता है, वरना पशु मर जाता है ।

.

.

.

.

.

.

24012011717-001

जीस दिन मैं गौशाला देखने गया तो दुर्भाग्य से एक मरी हुई गाय देखी । गांव के ही चर्मकारो को उसे ले जाते देखा । वहां सेवा दे रहे गौसेवक को पूछा कितने परसन्ट गाय मरती है इलाज के दौरान । काम छोटा है, मुश्किल से सालमें १५०-२०० गाय आती होगी कोइ रेकोर्ड नही रखते । आस पास खडे लोगोंने अंदाजे से बता दिया की ७५ से ८० % हम लोग बचा लेते हैं । गाय मरी हुई समज कर ही किसान गाय को हमारे हवाले कर जाते हैं । अच्छी होने के बाद वापस भी नही ले जाते हमे बडी गौशाला में भेज देना पडता है ।
.

.

.

अशक्त, अपंग, बिमार गायों की गौ-सेवा होस्पिटल । स्थापना ५-१०-२००३ रविवार ( दशहरा )

०९५१०९५११४५, ०९८२४५८७०७०, ०९३२७७७४७२४

नंद गौ सेवा संस्थान

प्राथमिक कन्याशाला के पास

नवा परा, नारी

जिला भावनगर, गुजरात

—————————————————————————————————————————-

गौ-हत्या से बचने के लिये अपना कचरा, जुठन प्लास्टिक की थैली में डाल कर मत फैंका करो ।

——————————————————————————————————————————-

कोइ दान धरम की आस से ये लेख या एड्रेस नही दिया है । दान के लिए हमारे ही गांव के लोग काफी है । इस संस्था का विकास करने का भी कोइ इरादा नही है । रोजमर्रा के काम के बीच ऐसी निःस्वार्थ सेवा हो सकती है ये बताना ही मेरा इरादा था । हमारे गांव के लडके अपना धंधा संभालते हुए ये काम कर सकते हैं तो और गांव के लडके भी कर सकते हैं । कोइ एक राज्यमें ऐसा हो सकता है तो और राज्यमें भी हो सकता है । कोइ एक गांव में संस्था को विकसित करके बडी करने में पगारदार सेवकों की जरूरत पडती है, और ऐसा होने पर सेवाभाव ही खतम हो जाता है ।




Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

4 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

vasudev tripathi के द्वारा
22/05/2013

अद्भुत, अनुकरणीय.!! निश्चित रूप से इन लोगों ने एक उदाहरण प्रस्तुत किया है। व्यक्तिगत निष्ठा श्रद्धा व समर्पण ही पहली और अंतिम आवश्यकता है पुनः इस देश को गो-पालक बना देने के लिए। प्रशंसा, धन्यवाद व नमन प्रेषित है इन युवाओं के लिए।

    bharodiya के द्वारा
    22/05/2013

    नमस्कार वासुदेवभाई ये लडके गांव के नाते हमारे भतिजे होते हैं । हम निठल्ले चाचाओं की आंख खोल रहे हैं । धन्यवाद आप का ।

ऋषभ शुक्ला के द्वारा
22/05/2013

सुन्दर विषय …..सुन्दर लेख , आज मै एक ऐसी रचना लेकर आप सब के सामने उपस्थित हुआ हूँ, जिसे पढ़कर आप सब की आँखे नाम हो जायेगी. और यही हमारे देश की कड़वी सच्चाई भी है, इस कविता के माध्यम से मै ऋषभ शुक्ला, इस समाज का निर्दयी ही सही लेकिन है तो सच. आज हमारे समाज के लोग महिलाओ के प्रती वही पुरानी सोच रखते है जो वह हमेशा रखते आये है, और आगे भी ऐसी ही सोच रखने का इरादा है. गरीब माँ-बाप अपनी बेटियों को बोझ समझते है और वह संतान के रूप में एक बेटा चाहते है, और इसके लिए वह गर्भ में ही जाच के द्वारा उन्हें यदी पता चल गया की गर्भ में बच्ची है तो उसे इस दुनिया में आने से पहले ही मार देते है, उस नन्ही सी जान को जो इस निर्मम दुनिया में आने को बेताब रहती है, उसकी सभी इच्छाओ को भी मार देते है . मै इस कविता के माध्यम से उस छोटी गुडिया के दर्द को आप सब से मुखातिब करने का प्रयत्न कर रहा हूँ. कृपया मेरी गुजारिश है की आप सब इस लिंक को देखे और उसके बारे में कम से कम दो शब्द कहे. यदी कमेंट देने में कोई असुविधा हो तो उसे लाइक करे या वोट करे. http://rushabhshukla.jagranjunction.com/?p=25 शुक्रिया

    bharodiya के द्वारा
    22/05/2013

    नमस्कार और आपका स्वागत है ऋषभ धन्यवाद प्रतिक्रिया बदल


topic of the week



latest from jagran