भारत बाप है, मा नही

Just another weblog

41 Posts

236 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 5733 postid : 1087

एन्काउंटर के प्रकार

Posted On: 29 Jun, 2013 पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

एन्काउंटर के प्रकार

(१) हिन्दु गुनहगार को मारा जाए तो तो हिन्दु कुछ नही बोलता है बल्की दूसरे खूशियां मनाते हैं तो साथमें वो भी खूशियां मनाने लगता है । खुशियां मनानेवालों मे विधर्मि प्रजा के साथ साथ, हिन्दु विरोधी पार्टियां, मिडिया, विदेशी पैसे पर कुदती स्वयंसेवी संस्थाएं, वामपंथी बुध्धिजीवी होते हैं ।
ऐसे एन्काउन्टर अक्सर कोंग्रेस या उस की सहयोगी पार्टि के राज्यों में होता है ।

(२) मुसलमान गुनगगार मारा जाता है तो बिलकुल उलट हो जाता है । सब रोने लगते हैं । हिन्दु को समजमें नही आता की खुश हो जाये या रोये ! सेक्युलर हिन्दु तो रोनेका वातवरण देखते ही रोने लगता है ।

ऐसे एन्काउन्टर सब जगह होते हैं लेकिन आरोप गुजरात पर ही लगाया जाता है । दूसरी जगह हुई घटना को भूला दिया जाता है । बटला हाउस गुजरातमें नही है, मुंबई गुजरातमें नही है । वहां की घटनाओं को भूल जाओ ।

एन्काउन्टर एक ः–

ग्वालियर. क्राइम ब्रांच ने सोमवार को पांच-पांच हजार रुपए के तीन इनामी बदमाश भाइयों को डांग वाले बाबा की पहाड़ी पर एनकाउंटर में मार गिराया। तीनों भाइयों पप्पू यादव, जीतू यादव व वीरेंद्र यादव ।

पहले घेरा, फिर पत्थर फेंके.. घर में लगाई आग और गोली चलाकर किया बदमाशों का खात्मा

घर में जा छिपे पप्पू और मोनू

इलाके में छाई खुशी

आईजी कटियार ने थपथपाई पीठ

एएसपी प्रतिमा एस मैथ्यू ने किया नेतृत्व

एएसपी प्रतिमा एस मैथ्यू, युसुफ कुरैशी, सीएसपी दीपक भार्गव, इस्पेंक्टर एसबी सिंह, संजीव नयन शर्मा, एसआई सुदेश तिवारी, एएसआई रिपुदमन सिंह, सुरेन्द्र सिंह वैश्य, आरिफ, राशिद खान, अशोक भदौरिया, राम, विनोद, जितेन्द्र, राजेश गुर्जर, शिवराम, बृजेश।

पूरा समाचार इधर मिलेगा ।

http://www.bhaskar.com/article/MP-GWA-live-encounter-some-fear-end-three-brothers-gwalior-mp-4301784-PHO.html?seq=1&HF

पोलिस की ईस टीम को कोइ नही पूछेगा की आपने बदमाशों को क्यों मारा ?
क्यों की बदमाश हिन्दु थे ।

एन्काउंटर दो ः-

इशरत जहां और उनके साथीयो को गुजरात पोलिस ने मार दिया तब से रोनेवाला विभाग रो रहा है । मोदी के बढते कद से परेशान ईस विभाग फिर से रोने लगा है । इतना ही नही उनके साथ साथ अमरिका भी रोने लगा है । वहां से खूपिया जानकारी आई है (कहा जाता है, जुठ बोलने वालों को कैन रोके ) की मोदी को पहले से मालुम था एन्काउन्टर के बारे में ।

http://khabar.ndtv.com/video/show/news-point/280934

ये जुठ बोलने की कला, ये रोने की कला, रोते रोते विरोधियों को परास्थ करने की कला, विरोधियों को मारने की कला कहां से सिखी ये जानना हो तो, अगर आप के पास समय हो तो, इस लेख को पढ लेना ।

https://bharodiya.wordpress.com/2013/05/22/६-मिल्यन-का-जुठ

.

.



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 4.50 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran